Wednesday, 28 December 2016

मुझे तेरी आँख का काजल बना देता तो अच्छा था


No comments:

Post a Comment