Sunday, 29 January 2017

ज़ख़्म कितने तेरी चाहत से मिले हैं


No comments:

Post a Comment