Friday, 20 January 2017

मेरी ज़िंदगी तो गुजरी तेरे हिज्र के सहा


No comments:

Post a Comment