Sunday, 8 January 2017

तुम्हारी ज़ुल्फ़ों के साये में शाम कर लूंगा


No comments:

Post a Comment