Sunday, 15 January 2017

बैठे रहे ज़मीन पर वो परिंदे रात भर


No comments:

Post a Comment