Sunday, 29 January 2017

ये दर्द मोहब्बत को निभाने की सज़ा है


No comments:

Post a Comment