Thursday, 12 January 2017

Romantic Shayari in Hindi on Mohabbat Ka 2017

↙शक का कोई ईलाज नहीं होता,
↙जो यकीं करता है कभी नराज नहीं होता,
↙वो पूछते है हमसे कितना प्यार करते हो,
↙उन्हे क्या पता मौहाबत का हिसाब नहीं होता.

No comments:

Post a Comment