Wednesday, 19 April 2017

ज़िन्दगी जुल्फ नहीं जो फिर से संवर जायेगी


No comments:

Post a Comment