Monday, 15 May 2017

तेरे ग़म ने मार डाला मुझे ज़िन्दग़ी


No comments:

Post a Comment