Wednesday, 21 June 2017

जिससे ग़मों की तेज़ हवाओं को मोड़ देता


No comments:

Post a Comment