Saturday, 24 June 2017

वो चांदनी का बदन ख़ुशबुओं का साया है


No comments:

Post a Comment