Monday, 20 November 2017

तेरी यादें गुलाब की साख हैं जो रोज महकती हैं


No comments:

Post a Comment