Sunday, 3 December 2017

बख्शी ख़ुदा ने कौन रोकेगा ज़ुबाँ मेरी


No comments:

Post a Comment