Sunday, 6 May 2018

ज़ुल्फ़ें बिखर गईं तो सियाह रात हो


No comments:

Post a Comment