Sunday, 6 May 2018

उलझा है पाँव यार का ज़ुल्फ़-ए-दराज़ में


No comments:

Post a Comment