Saturday, 2 June 2018

ग़म-ए-इश्क रह गया है ग़म-ए-जुस्तज़ू में ढलकर


No comments:

Post a Comment