ज़िन्दगी जैसे एक सज़ा सी हो गयी है











No comments:

Post a Comment