hindi shayari new best attitude 2016


  1. कहानीयो के हकदार नही,
  2. इतिहास के वारसदार हैं  हम#

  3. ====================================

  4. गुमान न कर अपने दिमाग पे मेरे दोस्त ,
  5. जितना तेरा दिमाग हे उतना तो मेरा दिमाग खराब रेहता हे !!

  6. ====================================
  7. न कहा करो हर बार की हम छोड़ देंगे तुमको,
  8. न हम इतने आम हैं, न ये तेरे बस की बात है…!!

  9. ====================================
  10. भाई की पहोंच #दिल्ली से लेकर #कब्रस्तान तक हैं ,
  11. आवाज दिल्ली तक जाती हैं ओर #दुश्मन कब्रस्तान तक ।

  12. ====================================
  13. मेरी खामोसी को कमजोरी ना समझ
  14. ऐ काफिर ,,
  15. गुमनाम समन्दर ही खौफ लाता है ।

  16. ====================================
  17. हम आहिर हे, प्यार से मांग लो
  18. ‘ जान हाजिर ‘ ।
  19. वरना तलवारों से इतिहास लिखना
  20. हमारी परंपरा हे ।।

  21. ====================================
  22. माँ ने कहा था कभी किसीका दिल मत तोडना,,
  23. इसलिए हमने दिल को छोड के बाक़ी सब तोड़ा !!

  24. ====================================

  25. हमारी गोली जान नही लेती बोस,,
  26. दुसरो के अन्दर जानवर जगा देती हे ।

  27. ====================================
  28. क्या करे बुरी आदत हे हमारी ,,
  29. नर्क के दरवाजे के सामने खड़े होकर पाप करते हे !!

  30. ====================================
  31. आहिरों का बस यही अंदाज हे ,
  32. जब आते हे तो गरमी अपने आप बढ़ जाती हे ।

  33. ====================================

  34. कुत्ते भोंकते हे अपना वजूद बनाये रखने के लिये ,,
  35. और लोगो की खामोशी हमारी मौजूदगी बया करती हे ।।

  36. ====================================

  37. माना की तेरी एक आवाज से
  38. भीड हो जाती हे ,,
  39. …..लेकिन हम भी आहिर हे ,,
  40. हमारी एक ललकार से पूरी भीड़
  41. बिखर जाती हे ।।

  42. ====================================
  43. तेवर तो हम वक्त आने पे दिखायेंगे ,,
  44. शहेर तुम खरीदलो उस पर हुकुमत हम  चलायेंगे…!!!

  45. ====================================

  46. बादशाह नहीं बाजीगर से पहचानते है लोग ,,
  47. “……क्यूकी…….”
  48. हम रानियो के सामने झुका नहीं करते….!!

  49. ====================================

  50. शेर खुद अपनी ताकत
  51. से राजा केहलाता है;
  52. जंगल मे चुनाव नही होते.. ।।

  53. ====================================
  54. में बंदूक और गिटार
  55. दोनों चलाना जानता हूं ।
  56. तय तुम्हे करना हे की
  57. आप कौन सी धुन पर नाचोगे..।।

  58. ====================================
  59. राज तो हमारा हर जगह पे है…।
  60. पसंद करने वालों के “दिल” में ; और
  61. नापसंद करने वालों के “दिमाग” में…।।

  62. ====================================

  63. रियासते तो आती जाती रहती हे,
  64. मगर बादशाही करना तो..
  65. आज भी लोग हमसे सीखते हे ।

  66. ====================================
  67. खेल ताश का हो या जिंदगी का ,
  68. अपना इक्का तब ही दिखाना
  69. जब सामने बादशाह हो ।

  70. ====================================
  71. तुम गरदन जुकाने की बात करते हो ,
  72. हम वौ है जो आंख उठाने वालो
  73. की गरदन प्रसाद मै बाट देते है..।।

  74. ====================================
  75. शायरी का बादशाह हुं और कलम मेरी रानी,
  76. अल्फाज़ मेरे गुलाम है, बाकी रब की महेरबानी ।

  77. ====================================

  78. हथियार तो सिर्फ सोंख के लिए रखा करते हे ,
  79. खौफ के लिए तो बस नाम ही काफी हे ।

  80. ====================================

  81. अकल कितनी भी तेज ह़ो
  82. नसीब के बिना नही जित सकती ,
  83. बिरबल काफी अकलमंद होने के बावजूद..
  84. कभी बादशाह नही बन सका ।

  85. ====================================
  86. पसंन्द आया तो दिल में ,
  87. नही तो दिमाग में भी नही ।

  88. ====================================

  89. जिंदगीमें बडी शिद्दत से निभाओ
  90. अपना किरदार,
  91. कि परदा गिरने के बाद भी तालीयाँ
  92. बजती रहे…


  93. ====================================

  94. हम आज भी शतरंज़ का खेल
  95. अकेले ही खेलते हे ,
  96. क्युकी दोस्तों के खिलाफ चाल
  97. चलना हमे आता नही ..।

  98. ====================================
  99. मेरे लफ्जों से न कर मेरे किरदार का फेसला ,
  100. तेरा वजूद मिट जाएगा मेरी हकिगत ढूंढते ढूंढते !

  101. ====================================
  102. तू मोहब्बत है मेरी इसीलिए दूर है मुझसे…
  103. अगर जिद होती तो शाम तक बाहों में होती ।

  104. ====================================

  105. जी भर गया है तो बता दो
  106. हमें इनकार पसंद है इंतजार नहीं…!

  107. ====================================

  108. मुझको पढ़ पाना हर किसी के लिए मुमकिन नहीं,
  109. मै वो किताब हूँ जिसमे शब्दों की जगह जज्बात लिखे है….!!

  110. ====================================
  111. मेरी फितरत में नहीं अपना गम बयां करना ,
  112. अगर तेरे वजूद का हिस्सा हूँ तो महसूस कर तकलीफ मेरी..।।

  113. ====================================

  114. जनाब मत पूछिए हद हमारी गुस्ताखियों की ,
  115. हम आईना ज़मीं पर रखकर आसमां कुचल दिया करते है ।

  116. ====================================
  117. इतना भी गुमान न कर आपनी जीत पर ” ऐ बेखबर ”
  118. शहर में तेरे जीत से ज्यादा चर्चे तो मेरी हार के
  119. हैं।….।।

  120. ====================================
  121. मुझमे खामीया बहुत सी होगी मगर,
  122. एक खूबी भी है…

  123. मे कीसी से रीश्ता मतलब के लीये नही रखता.

  124. ====================================
  125. खून अभी वो ही है
  126. ना ही शोक बदले ना ही जूनून,
  127. सून लो फिर से,
  128. रियासते गयी है रूतबा नही,
  129. #रौब ओर खोफ आज भी वही हें |

  130. ====================================

  131. जीत ##हासिल करनी हो तो काबिलियत बढाओ,
  132. किस्मत की रोटी तो कुत्तेको भी नसीब होती है.!!

  133. ====================================
  134. हम उस ऊंचाई पर हे
  135. ज#हा तुम्हारे सर से ज्यादा उंचाई पर
  136. हमारे पांव रहते हे ।

  137. ====================================

  138. उसने कहा मत देख मेरे सपने,
  139. मुझे पाने की तेरी औकात नही
  140. मेंने भी हस कर कहा  ;
  141. पगली आना हो तो आजा मेरे सपनो मे
  142. हकीकत मे आने की तेरी औकात नही😈..

  143. ====================================
  144. तेरे ही नाम से ज़ाना जाता हूं मैं,
  145. ना जाने ये ” शोहरत” है या     “बदनामी”…

  146. बुरे हैं ह़म तभी तो ज़ी रहे हैं..
  147. अच्छे होते तो द़ुनिया ज़ीने नही देती…!!
  148.        

  149. ====================================

  150. तुम जिन्दगी में आ तो गये हो मगर ख्याल
  151. रखना;
  152. हम ‘जान’ दे देते हैं मगर ‘जाने’ नहीं देते !!

  153. ====================================
  154. इसी बात से लगा लेना मेरी शोहरत का अन्दाजा…
  155. वो मुझे सलाम करते है, जिन्हे तु सलाम करता हैं !!

  156. ====================================
  157. वो मंज़िल ही बदनसीब थी जो हमें पा ना सकी,….
  158. वरना जीत की क्या औकात जो हमें ठुकरा दे ।

  159. ====================================

  160. किसीकी क्या मजाल जो खरीद सकता हमको ,
  161. वो तो हम ही बिक गये खरीददार देख के !
  162. ====================================
  163. ज़हासे तेरी बादशाही खत्म होंती हे ,
  164. वहासे मेरी नवाबी सुरु होती हे !

  165. ====================================

  166. पैदा तो में भी शरीफ हुवा था ,
  167. पर शराफत से अपनी कभी नही बनी ।
  168. ====================================
  169. बन्दा खुद की नज़र में सही होना चाहिए…
  170. दुनिया तो भगवान से भी दुखी है   !

  171. ====================================
  172. मेरे बारे में इतना मत सोचना ,
  173. दिल में आता हु , समज में नही ।
  174. ====================================
  175. तू जिद हे इस दिल की ,
  176. वरना इन आँखो ने  ,
  177. और भी हसीन चेहरे देखे हे ।

  178. ====================================

  179. वो तरस जाएँगी प्यार की एक बूँद के लिए;
  180. मैं तो बादल हूँ किसी और पे बरस जाऊंगा।

  181. ====================================
  182. वो खुद पर गरूर करते है,
  183. तो इसमें हैरत की कोई बात नहीं!
  184. जिन्हें हम चाहते है,
  185. वो आम हो ही नहीं सकते
  186. ====================================

  187. मेरी हिम्मत को परखने की गुस्ताखी न करना,
  188. पहले भी कई तूफानों का रुख मोड़ चुका हु .

  189. ====================================
  190. ओरों की जमीन सिर्फ जमीन हे
  191. और ;
  192. हमारी जमीन एक गरदिश।

  193. ====================================

  194. हमारे एक इशारे पे हवाए भी अपना रुख बदल देती हे ,
  195. मेरे तिनके बिखेरे जो ,
  196. ज़हान मैं किसकी हस्ती हे !!

  197. ====================================

  198. हालात ने तोड़ दिया हमें कच्चे धागे की तरह…
  199. वरना हमारे वादे भी कभी ज़ंजीर हुआ करते थे..

  200. ====================================

  201. कभी फूलों की तरह मत जीना,
  202. जिस दिन खिलोगे…,,
  203. टूट कर बिखर जाओगे ।
  204. जीना है तो पत्थर की तरह जियो;
  205. जिस दिन तराशे गए…
  206. “खुदा” बन जाओगे ।।

  207. ====================================
  208. “जमाने ने  आहीर के उसूल तो बदल दिए” पर “खून और दादागिरी आज भी वो ही है.. ।।

  209. ====================================
  210. मेरे बारे में सोचना भी मत ,
  211. में दिल में आता हु , समज में नही  !
  212. ====================================
  213. मैं तेरे नसीब की बारिस नहीं जो तुज पे बरस जाऊ।।
  214. तुझे तक़दीर बदल नि होगी मुझे पाने के लिए  ।

  215. ====================================
  216. तुम खुश-किश्मत हो जो हम तुमको चाहते है…
  217. वरना,
  218. हम तो वो है जिनके ख्वाबों मे भी लोग इजाजत
  219. लेकर आते है…!!

  220. ====================================

  221. दुनियादारी की चादर ओढ़ी है।
  222. पर जिस दिन दिमाग सटका ना,
  223. इतिहास तो इतिहास।
  224. भूगोल भी बदल देंगे।

  225. ====================================

  226. महसूस जब हुआ कि सारा शहर,
  227. मुझसे जलने लगा है,
  228. तब समझ आ गया कि अपना नाम भी,
  229. चलने लगा है”….

  230. ====================================

  231. शौक से बदल जाओ तुम मगर
  232. ये ज़हन मैं रखना
  233. की……
  234. हम जो बदल गये तो तुम करवटें
  235. बदलते रह जाओगे.!

  236. ====================================
  237. सिर्फ तेरे इश्क की गुलामी में हु आज भी ,
  238. वरना ये दिल एक अरसे तक नवाब रहा हे !

  239. ====================================
  240. ज़माना कुछ भी कहे उसका एहतेराम ना कर,
  241. जिसे ज़मीर ना माने उसे सलाम ना कर !

  242. ====================================
  243. टूटे हुए सपनो और छुटे हुए अपनों ने मार दिया……
  244. वरना ख़ुशी खुद हमसे मुस्कुराना सिखने आया करती थी….

  245. ====================================
  246. उनको डर है कि हम उन के लिए जान नही दे सकते,

  247. और मुझे खोफ़ है कि वो रोएंगे बहुत मुझे आज़माने के बाद !

  248. ====================================

  249. अगर परछाईयाँ कद से और बाते औकात से बडी होने लगे ;
  250. तो समझ लो कि सूरज डूबने ही वाला है

  251. ====================================

  252. दूर जा रहे हो तो सोंक से जाना ,.
  253. बस इतना याद रखना ;
  254. पीछे मुड़ने के देखने की आदत ईधर भी नही हे !
  255. ====================================

  256. अपुन की जिंदगी ताश के इक्के की तरह हे ,
  257. जिसके बगेर रानी और बादशाह भी अधूरे हे ।
  258. ====================================
  259. जिसे आज मुजमे हजार एब नजर आते हे ,
  260. #कभी वही लोग हमारी गलती पे भी ताली बजाते थे !!
  261. ====================================

  262. वो जिस गली की रानी होने का गुरुर करती हे ,
  263. नादान हे , इतना भी नही जानती !
  264. #उस सहेर के तो हम बादशाह थे ;
  265. फर्क सिर्फ इतना था की हमने लोगो के दिलों पे राज किया ।
  266. ====================================
  267. #ना पूछ मेरे सब्र की इन्तहा कहाँ तक है,
  268. ##हजारों चेहरों में उसकी झलक मिली मुझको…
  269. पर. दिल भी जिद पे अड़ा था कि
  270. अगर वो नहीं  ,तो उसके जैसा भी नहीं…

  271. ====================================

  272. हक़ से दो तो तेरी नफरत भी कुबूल है हमें ,
  273. खैरात में तो हम तुम्हारी मोहब्बत भी न लें …

  274. ====================================

  275. आहिर हाथ किसी का थामकर छोङते नहीँ…
  276. वादा अगर किसी से करे तो तोङते नही..
  277. अगर तोङ दे दिल कोई आहिर का,
  278. तो बिना हाथ पैर तोङे छोङते नही…
  279. ====================================


  280. लोग कहते है …
  281. तुजे तेरी “आहिर गीरी” एक दिन मरवायेंगी,
  282. मेने प्यार से कहां कया करु ?
  283. सबको आती नहि और मेरी जाती नहि .

  284. ====================================

  285. बेशक ताज के पत्तों में लाखों गवा दिये,
  286. पर रुतबा आज भी ईतना है कि,
  287. बेगम आज भी हमारे ईशारो पे चाल चलती है !

  288. ====================================

  289. हम वफा की दुनिया के बादशाह हे ,
  290. और …
  291. हमारी रियासत में बेवफा को मुजरा करने की भी इजाजत नही मिलती,
  292. फिर चाहे वो रानी हो या राजकुमारी !

  293. ====================================

  294. सिकंदर तो हम अपनी मर्जी से है ,
  295. पर हम दुनिया नहीं दिल जितने आये  हे ।

  296. ====================================
  297. ज़माने तेरे सामने मेरी कोई हस्ती नहीं,,
  298. लेकिन,,,
  299. कोई खरीद ले इतनी भी ये सस्ती नहीं…

  300. ====================================

  301. नीलाम कुछ इस कदर हुए,
  302. बाज़ार-ए-वफ़ा में हम आज,,
  303. बोली लगाने वाले भी वो ही थे,
  304. जो कभी झोली फैला कर माँगा करते थे!!

  305. ====================================
  306. तेरे दीदार की तलाश में आते है तेरी गलियों में
  307. वरना आवारगी के लिए पूरा शहर पड़ा  हे ।

  308. ====================================
  309. मिल सके आसानी से…
  310. उसकी ख्वाहिश किसे है?
  311. जिद्द तो उसकी है…
  312. जो मुकद्दर में लिखा ही नही है…!!!

  313. ====================================

  314. #आज़ाद कर दूंगा तुमको अपनी मुहब्बत की क़ैद
  315. से ,
  316. करे जो हमसे बेहतर तुम्हारी क़दर पहले वो शख्स
  317. #तो ढूँढो…

  318. ====================================

  319. #नहीं मिलेगा तुझे कोई हम सा,
  320. जा इजाजत है ज़माना आजमा ले !!

  321. ====================================
  322. #अपनी मर्जी से तो मुझे खाक भी मंजूर है…
  323. तेरी शर्तो पर तो ताज भी मंजूर नहीं…!!!

  324. ====================================

  325. #दुआओ को भी अजीब इश्क है मुझसे…
  326. वो कबूल तक नहीं होती मुझसे जुदा होने के डर से …!!!

  327. ====================================

  328. संघर्षो में यदि कटता है तो कट जाए सारा जीवन..!!
  329. कदम-कदम पर समझौता मेरे बस की बात नहीं….!!!!
  330. ====================================

  331. जुक के बात करने की आदत बना ले ,
  332. काफी फायेदे में रहोगे ;
  333. क्युकी ….
  334. आज भी आँखे मिला कर बात करने की तेरी औकात नही हे ।।

  335. ====================================

  336. बात मुक्कदर पे आ के रुकी है वर्ना,
  337. #कोई कसर तो न छोड़ी थी तुझे चाहने में !!

  338. ====================================

  339. #तमन्ना तेरे जिस्म की होती
  340. तो छीन लेते दुनिया से,;
  341. इश्क तेरी रूह से है इसलिए,
  342. #खुदा से मांगते हैं तुझे।

  343. ====================================
  344. #तू मुहब्बत से कोई चाल तो चल,
  345. हार जाने का हौसला है मुझ में…

  346. ====================================
  347. हमारी शक्सियत का अंदाज़ा
  348. तुम क्या लगाओगे गालिब…
  349. ##के हम तो कब्रगाहों से भी गुज़रते है
  350. #तो मुर्दे उठ कर कहते है
  351. ====================================

  352. सीढिया उन्हे मुबारक हो…..
  353. जिन्हे छत तक जाना है…..
  354. मेरी मन्जिल तो आसमान है..
  355. रास्ता मुझे खुद बनाना है..।
  356. ====================================
  357. लहरों को शांत देख कर ये न समझना की
  358. समंदर में रवानी नहीं है..
  359. जब भी उठेंगे तूफान बन के उठेंगे..
  360. अभी उठने की ठानी नहीं है …

  361. ====================================

  362. हमारी ताकत का अंदाजा हमारे जोर से
  363. #3नही..दुश्मन के शोर से पता चलता है….

  364. ====================================

  365. मेरी तकदीर को बदल देंगे मेरे बुलंद इरादे,
  366. ##मेरी किस्मत नहीं मोहताज मेरे हाँथों कि लकीरों कि !!!

  367. ====================================

  368. ##अब सज़ा दे ही चुके हो तो मेरा हाल ना पूछना,
  369. अगर मैं बेगुनाह निकला तो तुम्हे अफ़सोस बहुत होगा…

  370. ====================================
  371. #हम भी दरिया है,
  372. हमे अपना हुनर मालूम
  373. #हे। जिस तरफ भी चल पडेंगे,
  374. रास्ता हो जायेगा।

  375. ====================================

  376. उस दिन भि कहा था
  377. और आज फिर सुन ले
  378. सिरफ उमर ही छोटी है.
  379. लेकिन सलाम तो
  380. सारी दुनिया ठोकती है.

  381. ====================================
  382. उस दिन भि काहा था
  383. और आज फिर सुन ले
  384. सिरफ उमर ही छोटी है.
  385. लेकिन सलाम तो
  386. सारी दुनिया ठोकती है.

  387. ====================================

  388. दूर हो जाने की तलब है तो शौक से जा
  389. बस याद रहे की मुड़कर देखने की आदत इधर भी नही…….

  390. ====================================

  391. अक्सर वही लोग उठाते हैं सूरज पर
  392. उंगलियां……!
  393. एक जुगनू तक को छूने की जिन की औकात
  394. नहीं होती….!!

  395. ====================================

  396. मुझे हाथ की रेखाओं पर इसीलिए,
  397. विश्वास नहीं है…;
  398. कैद ये मेरी मुठ्ठी में है,
  399. क्या खोलेगी किस्मत मेरी…

  400. ====================================

  401. हम मशहुर होने का दावा तो नही करते।
  402. मगर…..
  403. जिसे भी आखँ भर कर देख लेते है
  404. उसे उलझन मे डाल देते है।

  405. ====================================

  406. दिल में नफरत हो तो चेहरे पर भी ले आता हूँ,
  407. बस इसी बात से दुश्मन मुझे पहचान गये ।।
  408. ====================================
  409. महसूस जब हो कि सारा शहर,
  410. आपसे ज़लने लगा है ,
  411. समझ लेना आपका नाम भी ,
  412. चलने लगा है !!

  413. ====================================

  414. मुझे हराकर कोई मेरी जान भी ले जाए मुझे मंजुर है,
  415. लेकिन…….
  416. धोखा देने वालों को मै दुबारा मौका नही देता

  417. ====================================

  418. तुझे तो हमारी मोहब्बत ने मशहूर कर दिया बेवफ़ा ….
  419. वरना तू सुर्खियों में रहे तेरी इतनी औकात नहीं……!

  420. ====================================
  421. गुलामी तो हम सिर्फ अपने माँ
  422. बाप की करते है……
  423. दुनिया के लिये तो कल भी
  424. बादशाह थे और आज भी..!!

  425. ====================================
  426. तेरी मोहब्बत कि तलब थी तो हाँथ फैला दिये हमने,
  427. वरना हम तो अपनी जिन्दगी के लिए भी दुआ नही मागते..

  428. ====================================

  429. मुझे ही नहीं रहा शौक़ -ए मोहब्बत
  430. वरना…
  431. तेरे शहर की खिड़कियाँ इशारे अब भी करती हैं..
  432. ====================================

  433. ना तो बिका हूँ ना ही कभी बिक पाऊंगा
  434. ये ना समझना मै भी हज़ारो जैसा हूँ॥

  435. ====================================
  436. जिसदिन आपना एक्का चलॆगा ..
  437. उस दिन बादशाह तो क्या
  438. उसका बाप भि पना गुलाम बनेगा ..

  439. ====================================
  440. मजा इसमें कुछ की,
  441. दुश्मन को भी ख़बर दे कर मारो..
  442. अगर बेहुनर है तो उसको,
  443. हुनर दे कर मारो.. !!
  444. ====================================

  445. अच्छे होते है बुरे लोग ,…
  446. कम से कम अच्छे होने का दिखावा नहीं करते …

  447. ====================================

  448. मेरी शोहरत का अन्दाजा
  449. इसी बात से लगा लेना,
  450. जिन्हे तुम सलाम करते हो ;
  451. वो मुझे सलाम करते है !!

  452. ====================================

  453. हर किसी को मैं खुश रख सकूं
  454. वो सलीका मुझे नहीं आता..
  455. जो मैं नहीं हूँ, वो दिखने का
  456. तरीका मुझे नहीं आता ।

  457. ====================================

  458. वो लोग भी चलते है आजकल तेवर बदलकर …
  459. जिन्हे हमने ही सिखाया था चलना संभल कर…!
  460. ====================================

  461. मेरी आँखों के जादु से अभी तुम कहा वाकिफ हो ,
  462. हम उसे भी जीना सिखा देते हे जिसे मरने का सौक हो ।

  463. ====================================
  464. उस दिन भि काहा था और आज फिर कहते हे….सिर्फ उमर ही छोटी है.
  465. लेकिन जजबा तो दुनिया को मुठी में करने का रखते है….।।

  466. ====================================
  467. ताज कि फिकर तो बादशाहों को होती हे ,
  468. हम तो आहिर हे , ….
  469. आहिर अपनी सियासत खुद लेकर चलते हे ।

  470. ====================================
  471. आसमानों से केह दो की हमारी उड़ान देखनी है
  472. तो अपना कद और ऊँचा कर ले…
  473. हुस्न वालो से केह दो की अगर इश्क
  474. देखना हो तो हमसे आके मिले ।

  475. ====================================

  476. हर किसी के हाथ में बिक जाने को तैयार नही है ये
  477. मेरा दिल है, तेरे शहर का अखब़ार नही..

  478. ====================================
  479. तुझे तो हमारी मोहब्बत ने मशहूर कर
  480. दिया बेवफ़ा
  481. वरना तू सुर्खियों में रहे, तेरी इतनी औकात
  482. नहीं
  483. ====================================

  484. हमें पसन्द नहीं जंग में भी चालाकी,यारो….
  485. जिसे निशाने पे रखते हैं, बता के रखते हैं…..!

  486. ====================================

  487. #जहासे तेरी बादशाही खत्म होती है
  488. #वहासे मेरी नवाबी सुरु होती हे ।

  489. ====================================

  490. #मेरी दोस्ती का फायदा उठा लेना, क्युंकी
  491. मेरी दुश्मनी का नुकसान सह नही पाओगे …

  492. ====================================
  493. #हजार गम मेरी फितरत नही बदल सकते ;
  494. क्या करू मुझे आदत हे मुस्कुराने की ।

  495. ====================================
  496. वो जिंदगी की कसमस में थोडा उलज गया हु ,
  497. .
  498. .
  499. दोस्तों …
  500. .
  501. .
  502. .
  503. #वरना हम भी उनमेसे हे जो दुश्मनों को भी अकेला महसूस नही होने देते ।

  504. ====================================

  505. #तेरे इश्क का सुरूर था जो खुदको बर्बाद किया ,
  506. वरना दुनिया मेरी भी दीवानी थी ।

  507. ====================================

  508. #ये मत सोचो कि तुम छोड़ दोगे तो हम मर जायेंगे ,
  509. #वो भी जी रहे हे जिनको तेरी खातिर हमने छोड़ा था ।

  510. ====================================
  511. #तमन्ना उसके वजूद की होती तो दुनिया से छीन लेता ,
  512. इश्क उसकी रूह से हे इसलिये खुदा से माँगता हु ।

  513. ====================================

  514. #वो तो अपनों की ही फिकर में वक्त की किमत समजते हे ,
  515. वरना वक्त को भी समजा देते हमारी किमत क्या हे ।

  516. ====================================
  517. गुलामी तो तेरे इश्क की हे वरना ,
  518. #ये दिल कल भी नवाब था और आज भी हे ।

  519. ====================================

  520. बेखुदी की जिंदगी हम जिया नही करते.
  521. #जाम दुसरो से हम पिया नही करते.
  522. उन्ह को मोहब्बत है तो आ के इजहार करे.
  523. #पिछा हम भी किसी का किया नही करते.।

  524. ====================================

  525. “#हम अच्छे सही पर लोग ख़राब कहतें हैं, इस देश का बिगड़ा हुआ हमें नवाब कहते हैं, हम ऐसे बदनाम हुए इस शहर में,
  526. कि पानी भी पिये तो लोग उसे शराब कहते हैं”

  527. ====================================

  528. #तलास हे मुझे दिल से चाहने वाले की ,
  529. हुस्न तो आज कल बाज़ार में भी बिकते हे ।

  530. ====================================

  531. इस गफलत में ना रेहना ,
  532. #कि तेरे वास्ते में जाग रहा हु ;
  533. #नींद मेरी आँखों से नही ,
  534. #मेरे मुक्कदर से उडी हुई हे ।

  535. ====================================
  536. लोगो से कह दो हमारी तकदीर से जलना छोड़ दे
  537. #हम घर से दवा नही भगवान की दुआ लेकर निकलते है… !!!
  538. कोई ना दे हमें खुश रहने की दुआ, तो भी कोई बात नहीं…
  539. वैसे भी हम खुशियाँ रखते नहीं, बाँट दिया करते है…

  540. ====================================

  541. #गुजर गया वक्त जब हम तुम्हारे तल्बगार थे ,
  542. #अब जिंदगी बन जाओ तो भी हम कबूल नही करेंगे ।

  543. ====================================
  544. #हम इस काबिल तो नही की कोई हमे अपना समजे ,
  545. ले#किन इतना तो यकीन है की कोई रोयेगा बहोत हमे खो देने के बाद ।

  546. ====================================

  547. अंजाम की परवा होती तो में इश्क करना छोड देता ,
  548. ” इश्क में जिद होती हे और जिद का में बताज बादशाह हु “।।

  549. ====================================

  550. नही मिलेगा मुज जेसा चाहने वाला तुजे कोई ,
  551. जा तुजे इजाज़त हे आजमाले सारी दुनिया ।

  552. ====================================
  553. बेवफा लोगो को हमसे बेहतर कोन जानेगा ,
  554. हम तो जले हुवे कागजों से भी अल्फाज़ पढ़ लिया करते हे ।

  555. ====================================
  556. #सज़ा देनी हमको भी आती हे ओ बेखबर ,
  557. #पर तू तकलीफ से गुजरे ये हमे गवारा नही ।

  558. ====================================
  559. तुम मुझसे दूरियां बांधने का सोंख पूरा करलो ,
  560. ##मेरी भी जीद हे तुझे हर दुवा में मांगने की ।

  561. ====================================

  562. #हद से बढ़ चूका हे आपका नजर अंदाज करना , एसा सलूक ना करो की हम भूलने पे मजबूर हो जाये ।।


  563. ====================================
  564. #तू जिद हे इस दिल की , वरना इन आँखो ने और भी हसीन चेहरे देखे हे ।
  565. ====================================

  566. #सूरज भले ही जुकता हो चाँद के आगे प्यार में , पर हमारी फितरत नही हे प्यार में जुकना , हे उसकी तकदीर में जोर तो पाले हमे , वरना आंसू भी नसीब नही होंगे उसे, हमे किसी और के साथ देख कर
  567. ====================================

  568. वो प्यार ही हमारे काबिल का ना था , वरना मोहब्त की क्या औकात जो हमे ठुकरा दे !
  569. ====================================

  570. हमारे बाद भी नही आएगा तुम्हे चाहत का मज़ा , तुम सबसे कही फिरोगी हमे चाहो उसकी तरह !
  571. ApunKaStatus.tk

  572. ====================================
  573. किसकी मजाल जो छेड़े दिलेर को ,
  574. गरदिस में घेर लेते हे गीदड़ भी शेर को ।।
  575. ====================================

  576. शांको से टूट जाये वो पत्ते नही हे हम ,
  577. इन आंधीयों से केहदो जरा अपनी औकात में रहे ।
  578. ====================================
  579. आवारगी छोड़ दी हमने तो लोग भुलाने लगे हमे , वरना शोहरत कदम चूमती थी जब हम बदनाम हुवा करते थे ====================================
  580. करले आज दीदार मेरा फेसबुक पे जी भरके , तरस जाएगी एक जलक के लिए जिस दिन विकिपेडिया पे मिलूँगा ====================================
  581. तेरी तो जिद की औकात भी नही हे ,
  582. वरना मान भी लेता ।
  583. ====================================

  584. याद नही करोगे तो भुला भी ना सकोगे मेरा ख्याल ज़ेहन से मिटा भी ना सकोगे एक बार जो तुम मेरे गम से मिलोगे तो सारी उमर मुस्कुरा ना सकोगे..!
  585. ====================================

  586. वो तरस जाएँगी प्यार की एक बूँद के लिए;
  587. मैं तो बादल हूँ किसी और पे बरस जाऊंगा।
  588. ====================================

  589. बिना मकसद बहुत मुश्किल है जीना​;​
  590. खुदा आबाद रखना दुश्मनों को​ मेरे।
  591. ====================================
  592. उसने हमसे पूछा तेरी रज़ा क्या है;
  593. क्यों करते हो पसंद वजह क्या है;
  594. कोई बताए उसे मेरी खता क्या है;
  595. जो वजह से करे पसंद किसी को,
  596. उसमें मज़ा क्या है।
  597. ====================================

  598. ​​हक़ से दे तो “नफरत​”​ भी सर आंखों पर​।
  599. खैरात में तो तेरी “मोहब्बत” भी मंजूर नहीं।
  600. ====================================

  601. धोखा दिया था जब तूने मुझे. जिंदगी से मैं नाराज था, सोचा कि दिल से तुझे निकाल दूं. मगर कंबख्त दिल भी तेरे पास था….
  602. ====================================

  603. मेरी फितरत में नहीं अपना गम बयां करना;
  604. अगर तेरे वजूद का हिस्सा हूँ तो महसूस कर तकलीफ मेरी!
  605. ApunKaStatus.tk

  606. ====================================

  607. दर्द ही सही मेरे इश्क का इनाम तो आया;
  608. खाली ही सही हाथों में जाम तो आया;
  609. मैं हूँ बेवफ़ा सबको बताया उसने;
  610. यूँ ही सही, उसके लबों पे मेरा नाम तो आया।
  611. ====================================

  612. उन पंछियों को कैद में रखना आदत नही हमारी; जो हमारे दिल के पिंजरे में रहकर गैरों के साथ उड़ने का शौक रखते हों!
  613. ====================================

  614. जुबां पे मोहर लगाना कोई बड़ी बात नहीं;
  615. बदल सको तो बदल दो मेरे खयालों को।
  616. ====================================

  617. बैठ कर किनारे पर मेरा दीदार ना कर;
  618. मुझको समझना है तो समन्दर में उतर के देख!
  619. ====================================

  620. लाख तलवारे बढ़ी आती हों गर्दन की तरफ;
  621. सर झुकाना नहीं आता तो झुकाए कैसे।
  622. ====================================
  623. हादसों की ज़ड में हैं तो क्या मुस्कुराना छोड़ दें; जलजलों के खौफ से क्या घर बनाना छोड़ दें??
  624. ====================================

  625. वो खुद पर गरूर करते है, तो इसमें हैरत की कोई बात नहीं!
  626. जिन्हें हम चाहते है, वो आम हो ही नहीं सकते!
  627. ====================================

  628. रेत पर नाम कभी लिखते नहीं;
  629. रेत पर नाम कभी टिकते नहीं;
  630. लोग कहते है कि हम पत्थर दिल हैं;
  631. लेकिन पत्थरों पर लिखे नाम कभी मिटते नहीं!
  632. ====================================

  633. तुम मुझे मौका तो दो ऐतबार बनाने का;
  634. थक जाओगे मेरी वफाओं के साथ चलते चलते!
  635. ====================================
  636. उसने देखा ही नहीं अपनी हथेली को कभी;
  637. उसमे हलकी सी लकीर मेरी भी थी!
  638. ====================================
  639. हमे भुला कर तो देखो ;
  640. हर ख़ुशी तुमसे रूठ जाएगी;
  641. जब भी देखोगे आईने में सूरत अपनी;
  642. हमारी ही सूरत नज़र आएगी


  643. ====================================
  644. सोचता हूँ कि अब तेरे दिल में उतर कर देखूं;
  645. कौन है वहां, जो मुझको तेरे दिल में बसने नहीं देता!
  646. ====================================

  647. खुद को वो चाहे लाख मुकमल समझें;
  648. लेकिन मेरे बिना, वो मुझे अधुरा ही लगता है!
  649. ====================================
  650. #दिल अगर अपना है तो किसी और के बस में क्यों है।
  651. ====================================

  652. #मुहब्बत में झुकना कोई अजीब बात नहीं;
  653. चमकता सूरज भी तो ढल जाता है चाँद के लिए।
  654. ====================================
  655. #किसी के दिल में बसना कुछ बुरा तो नही;
  656. किसी को दिल में बसाना कोई खता तो नही;
  657. गुनाह हो यह ज़माने की नजर में तो क्या;
  658. #यह ज़माने वाले कोई खुदा तो नही!
  659. ====================================
  660. #किसी की क्या मजाल थी;
  661. जो हमें खरीद सकता;
  662. हम तो खुद ही बिक गये;
  663. #खरीददार देख के।
  664. ====================================

  665. #उस एक चेहरे ने हमें तन्हा कर दिया वरना;​
  666. हम तो अपने आप में ही एक महफ़िल हुआ करते थे।
  667. ====================================

  668. #हम क्योँ गम करेँ अगर वो हमेँ ना मिले अरे!
  669. #गम तो वो करेँ जिसे हम ना मिले।
  670. ====================================

  671. #खेरात में मिली हुई खुशी हमे पसंद नही है क्यूंकि हम गम में भी नवाब की तरह जीते है…
  672. ====================================
  673. अंदाज़ कुछ अलग ही मेरे सोचने का है,
  674. #सब को मंज़िल का है शौख मुझे रास्ते का ह`
  675. ====================================
  676. #बेमतलब की ज़िदगी का सिलसिला अब ख़त्म ,अब जिस तरह की दुनिया उस तरह के हम
  677. ====================================

  678. #तुम न रख सकोगे मेरा तोहफा संभालकर वरना मै अभी दे दूँ, जिस्म से रूह निकालकर
  679. ====================================

  680. “#अगर मिलती मुझे एक दिन की बादशाही.. तो ऐ दोस्तों… मेरी रियासत में तुम्हारी तस्वीर के सिक्के चलते…”
  681. ====================================
  682. #फकीर हूँ सिर्फ तुम्हारे दिल का,
  683. बाकी दुनिया का तो सिकन्दर ही हु….
  684. ====================================

  685. #मुझे जिंदगी का इतना तजुर्बा तो नहीं,
  686. #पर सुना है सादगी मे लोग जीने नहीं देते।
  687. ====================================
  688. कदर किरदार की होती है
  689. … वरना…
  690. #कद में तो साया भी इंसान से बड़ा होता है..
  691. ====================================

  692. #इस कदर शिद्दत से चाहा था मैने उसको यारो…….
  693. अगर दुश्मन भी होता तो निभाता उम्रभर……!
  694. ====================================
  695. #मुझे देख कर तेरी हैरानी लाज़मी है…..
  696. इस दौर में इंसान कम ही मिला करते हैं…!!
  697. ====================================
  698. “कल किसी और ने खरीद लिया तो शिकायत ऩ करना, इसलिए आज हम सबसे पहले तेरे शहर मे बिकने आये है.”
  699. ====================================

  700. तुम खुश-किश्मत हो जो हम तुमको चाहते है… वरना,
  701. हम तो वो है जिनके ख्वाबों मे भी लोग इजाजत लेकर आते है…!!
  702. ====================================
  703. कसूर मेरा था तो कसूर उनका भी था,
  704. नज़र हमने जो उठाई थी तो वो झुका भी सकते थे…
  705. ====================================

  706. तू रूठा रूठा सा लगता है कोई तरकीब बता मानाने की मैं ज़िन्दगी गिरवी रख दूंगा तू क़ीमत बता मुस्कुराने की
  707. ====================================
  708. मंदर फतह करने का,
  709. मेरी कागज की कश्ती में कई जूगनु भी होते है…..
  710. ====================================

  711. दौलत के तराजू में तोलों तो फ़कीर हैं हम… दरियादिली में हम जैसा नवाब कोई नहीं……
  712. ====================================

  713. ऊपर वाला भी आशिक है साला अपना ,
  714. किसी और का होनें नहीं देता मुझे ….


  715. हाथ में खंजर ही नहीं आंखोमे पानी भी चाहिए ,
  716. ऐ खुदा मुझे दुश्मन भी खानदानी चाहिए .
  717. ====================================
  718. करेगा जमाना भी हमारी कदर एक दिन,
  719. देख लेना.. बस जरा वफ़ा की बुरी आदत छुट जाने दो…..!
  720. ====================================

  721. इसी बात से लगा लेना मेरी शोहरत का अन्दाजा वो मुझे सलाम करते है जिन्हे तु सलाम करती हैं ।

  722. ====================================

  723. मेरी चाहतों की खता थी जो तुझे प्यार के काबिल समझा मैंने,
  724. वरना इस गुलिस्तान में कमी न थी फूलों और बहारों की।

  725. ====================================

  726. मेरे लफ़्ज़ों से न कर मेरे क़िरदार का फ़ैसला।। तेरा वज़ूद मिट जायेगा मेरी हकीक़त ढूंढ़ते ढूंढ़ते।।

  727. ====================================

  728. खत्म हो भी तो कैसे, ये मंजिलो की आरजू …
  729. ये रास्ते है के रुकते नहीं, और इक हम के झुकते नही

  730. ====================================

  731. मै तब भी अकेला नहीं था,
  732. नहीं आज भी हु, तब यारो का काफिला था,
  733. आज यादो का कांरवा है ….

  734. ====================================

  735. मैं अपनी मौज़ में डूबा हुआ जज़ीरा हूँ उतर गया है समंदर बुलन्द पा के मुझ

  736. ====================================
  737. ए खुदा रखना मेरे दुष्मनो को भी मेहफूज ..! वरना मेरी तेरे पास आने की दुवा कौन करेगा ..!!

  738. ====================================

  739. जो पीने-पीलाने की बात करते है,
  740. कह दो ऊनसे कभी हम भी पीया करते थे,,
  741. जीतने मे यह लोग बहक जाते है,,
  742. ऊतनी तो हम ग्लास मे ही छोड दीया करते थे…

  743. ====================================

  744. न कहा करो हर बार की हम छोड़ देंगे तुमको,
  745. न हम इतने आम हैं, न ये तेरे बस की बात है…!!

  746. ====================================

  747. सबके कर्ज़े चुका दूं मरने से पहले ऐसी मेरी नीयत है ….
  748. मौत से पहले तू भी बता दे ज़िन्दगी तेरी क्या क़ीमत है !!!!!

  749. ====================================

  750. हीरे की काबिलियत रखते हो तो,
  751. अँधेरे में चमका करो…!
  752. रौशनी में तो कांच भी चमका करते है ….!!!

  753. ====================================

  754. एक अजीब सवाल किया उसने मुझ से “मुझ पे मरते हो तो जिंदा क्यूँ हो ?

  755. ====================================

  756. ज़िंदगी की हर एक उड़ान बाकी है हर मोड़ पर एक इम्तिहान बाकी है अभी तो सिर्फ़ आप ही परेशान है मुझसे अभी तो पूरा हिन्दुस्तान बाकी है…

  757. ====================================

  758. मे तोड़ लेता अगर तू गुलाब होती मे जवाब बनता अगर तू सबाल होती सब जानते है मैं नशा नही करता, मगर में भी पी लेता अगर तू शराब होती!

  759. ====================================

  760. जीत तो सकते थे हम भी इश्क की बाज़ी,
  761. पर तुम्हे जितने के लिए हम हारते चले गये….

  762. ====================================
  763. एहसान नहीं है जिन्दगी तेरा मुझ पर ,
  764. मैंने हर सांस की यहाँ कीमत दी है।।

  765. ====================================
  766. नफरत है तो क्या हुआ यारो,
  767. कुछ तो है जो वो सिर्फ हमसे करते हैं।”

  768. ====================================

  769. ना आना लेकर उसे मेरे जनाजे में,
  770. मेरी मोहब्बत की तौहीन होगी,
  771. मैं चार लोगो के कंधे पर हूंगा,
  772. और मेरी जान पैदल होगी.

  773. ====================================

  774. खुशबू बनकर गुलों से उड़ा करते हैं,
  775. धुआं बनकर पर्वतों से उड़ा करते हैं,
  776. ये कैंचियाँ खाक हमें उड़ने से रोकेगी,
  777. हम परों से नहीं हौसलों से उड़ा करते हैं.

  778. ====================================

  779. बादशाह तो में कहीं का भी बन सकता हूँ पर तेरे दिल की नगरी में हुकूमत करने का मज़ा ही कुछ अलग है………

  780. ====================================

  781. जब से पता चला है,
  782. की मरने का नाम है ‘जींदगी’;
  783. तब से, कफ़न बांधे कातील को ढूढ़ते हैं!”

  784. ====================================
  785. #अगर है दम तो चल डुबा दे मुजको,
  786. समंदर नाकाम रहा, अब तेरी आँखो की बारी..

  787. ====================================

  788. #जिस दिन अपना एक्का चलेगा ना उस दिन बादशाह तो क्या उसका बाप भी अपना गुलाम होगा



  789. #पथ्थर समझ के हमें मत ठुकराओ ,
  790. कल हम मंदिर में भी हो सकते हैं ।

  791. ====================================

  792. #मेरी हिम्मत को परखने की गुस्ताखी न हो,
  793. पहले भी कई तूफानों का रुख मोड़ चुका हु .

  794. ====================================

  795. मुझे दफनाने से पहले मेरा दिल निकाल कर उसे दे देना… मैं नही चाहता के वो खेलना छोङ दे…!!

  796. ====================================

  797. #अमीर होता तो बाज़ार से खरीद लाता नकली… गरीब हूँ इसलीये दील असली दे रहा हु…

  798. ====================================
  799. #वो दिल ही क्या जो वफ़ा ना करे,
  800. #तुझे भूल कर जिएं कभी खुदा ना करे,
  801. रहेगी तेरी दोस्ती मेरी जिंदगी बन कर,
  802. वो बात और है, अगर जिंदगी वफ़ा ना करे.

  803. ====================================

  804. ##हिम्मत इतनी तो नहीं मुझमे के तुझे दुनिया से छीन लूँ , लेकिन मेरे दिल से कोई तुझे निकाले, इतना हक तो मैंने खुद को भी नहीं दिया..

  805. ====================================

  806. #बादलों से कह दो अब इतना भी ना बरसे…. अगर मुझे उनकी याद आ गई,
  807. तो मुकाबला बराबरी का होगा….

  808. ====================================

  809. जिंदगी से कोई चीज़ उधार नहीं मांगी मैंने…. कफ़न भी लेने गए तो जिंदगी अपनी देकर….!!
  810. ====================================
  811. पाना है जो मुकाम वो अभी बाकी है.
  812. #अभी तो आए है जमीं पर .
  813. आसमान की उडान अभी बाकी है.
  814. ##अभी तो सुना है लोगो ने सिर्फ मेरा नाम.
  815. अभी इस नाम कि पहचान बनाना बाकी है…

  816. ====================================

  817. #किसी ने ग़ालिब से कहा : सुना है जो शराब पीते हैं उनकी दुआ कुबूल नहीं होती !!
  818. ग़ालिब बोले : जिन्हें शराब मिल जाए उन्हें किसी दुआ की ज़रूरत नहीं होती ।।……….

  819. ====================================
  820. #‘हम वो हैं जो हार कर भी यह कहते हैं;
  821. वो मंज़िल ही बदनसीब थी, जो हमें ना पा सकी; वर्ना जीत की क्या औकात; जो हमें ठुकरा दे..

  822. ====================================

  823. #हालात ने तोड़ दिया हमें कच्चे धागे की तरह… वरना हमारे वादे भी कभी ज़ंजीर हुआ करते थे..

  824. ====================================
  825. आवारगी छोड़ दी हमने तो लोग भूलने लगे है वरना शोहरत कदम चूमती थी जब हम बदनाम हुआ करते थे…

  826. ====================================

  827. @जल जाते हैं मेरे अंदाज़ से मेरे दुश्मन क्यूंकि एक मुद्दत से मैंने न मोहब्बत बदली और न दोस्त बदले .!!

  828. ====================================

  829. @बिकने वाले और भी हैं, जाओ जा कर ख़रीद लो हम ‘कीमत’ से नहीं ‘क़िस्मत’ से मिला करते हैं.

  830. ====================================

  831. @मुजे एक ने पूछा “कहा रहते हो “
  832. मैंने कहा “औकात मे “
  833. साले ने फिर पूछा “कब तक ?”
  834. मैंने कहा “सामने वाला रहे तब तक “

  835. ====================================

  836. @मुजे एक ने पूछा “कहा रहते हो “ मैंने कहा “औकात मे “ साले ने फिर पूछा “कब तक ?” मैंने कहा “सामने वाला रहे तब तक “

  837. ====================================

  838. @कोई वादा नहीं फिर भी प्यार है, जुदाई के बावजूद भी तुझपे अधिकार है. तेरे चेहरे की उदासी दे रही है गवाही, मुझसे मिलने को तू भी बेक़रार हे ।

  839. ====================================
  840. हम वक्त और हालात के साथ ‘शौक’ बदलते हैं, दोस्त नही … !!

  841. ====================================

  842. #उन से कह दो अपनी ख़ास हिफाज़त किया करे .. बेशक साँसे उनकी है … पर जान तो मेरी हे ।
  843. ====================================

  844. #हमारे इश्क का अंदाज कुछ अजीब सा था, दोस्तों, लोग इन्सान देखकर मोहब्बत करते है, हमनें मोहब्बत करके इन्सान देख लिया !!!

  845. ====================================
  846. 3मेरी आँखों के जादू से अभी तुम नावाकिफ़ हो हम उसे ज़ीना सिखा देते हे जिसे मरने का शौक़ हो

  847. ====================================

  848. #एक छुपी हुई पहचान रखता हूँ,
  849. बाहर शांत हूँ, अंदर तूफान रखता हूँ,

  850. ====================================

  851. #दादागिरी तो हम मरने के बाद भी करेंगे ,
  852. लोग पैदल चैलेगे और हम कंधो पर…

  853. ====================================

  854. #जिन्दगी बैठी थी अपने हुस्न पै फूली हुई,
  855. मौत ने आते ही सारा रंग फीका कर दिया।


  856. #मैयखाने मे आऊंगा मगर… पिऊंगा नही साकी… ये शराब मेरा गम मिटाने की औकात नही रखती…

  857. ====================================

  858. #जैसा भी हूं अच्छा या बुरा अपने लिये हूं,
  859. मै खुद को नही देखता औरो की नजर से….

  860. ====================================

  861. #मतलबी लडकी से अच्छी तो मेरी सिगरेट हे यारो…….. जो मेरे होठ से अपनी जिंदगी शुरू करती हे ओर मेरे कदमो के नीचे अपना दम तोड देती हे…!

  862. ====================================

  863. #छोड दी हमने हमेशा के लिए उसकी आरजू करना…
  864. #जिसे मोहब्बत की कद्र ना हो उसे दुआओ मे क्या मांगना…

  865. ====================================

  866. #वक़्त रहते संभाल लो मुझे कहीं तुम मुझे खो दो और तुम्हे खबर भी न हो !

  867. ====================================
  868. #लाजिमी है उसका खुद पे गुरूर करना,
  869. हम जिसे चाहे वो मामूली हो भी नही सकती…..

  870. ====================================
  871. मेरी उम्र इतनी तो नहीं फिर भी..
  872. #ना जाने क्यों?? .
  873. बड़े बड़े आशिक़ मुझे सलाम करते है...

  874. ====================================
  875. #हम आज भी अपने हुनर मे दम रखते है ।।
  876. फट जाती है लोगो की जब हम कदम रखते है।।

  877. ====================================
  878. ठहर सके जो ……..
  879. लबों पे हमारे, हँसी के सिवा, है मजाल किसकी..

  880. ====================================

  881. माना के तेरी नज़र के काबिल नहीं हूँ मैं,
  882. कभी उन से भी पूछ, जिन्हें हासिल नहीं हूँ मैं!!

  883. ====================================

  884. ज़िन्दगी तुझसे हर कदम पर समझौता करूँ,
  885. शौक जीने का है मगर इतना भी नहीं।l

  886. ====================================

  887. मै झुकता हूँ हमेशा आँसमा बन के …
  888. जानता हूँ कि ज़मीन को उठने की आदत नही…….

  889. ====================================

  890. #हथियार तो सिर्फ शौक के लिए रखा करते है, वरना किसी के मन में खौंफ पेदा करने के लिए तो बस नाम ही काफी हे.

  891. ====================================

  892. #तरक्की की फसल, हम भी काट लेते..!
  893. थोड़े से तलवे, अगर हम भी चाट लेते..!!

  894. ====================================

  895. #लोग पूछते हैं की तुम क्यूँ अपनी मोहब्बत का इज़हार नहीं करते, हमने कहा जो लब्जों में बयां हो जाये सिर्फ उतना हम किसी से प्यार नहीं करते…!!!

  896. ====================================

  897. #उधार के उजाले से चमकने वाले चाँद कि आँखों में चुभता हूँ जुगनू हूँ थोडा लेकिन खुद का उजाला लेके घूमता हूँ

  898. ====================================

  899. तु#झे तो मोहब्बत भी तेरी ऒकात से ज्यादा की थी … अब तो बात नफरत की है , सोच तेरा क्या होगा…

  900. ====================================

  901. मेरे बारे मे कोइ राय मत बनाना गालिब. मेरा वक्त भी बदलेगा.. तेरी राय भी.”





hindi shayari new best attitude 2016,best attitude shayari in hindi font,attitude shayari in hindi for fb status whatsapp,ATTITUDE-status, quotes, shayari,Hindi Status: Whatsapp Status in Hindi font one line 1,2 two line shayari 2016.

No comments:

Post a Comment