Alone Shayari Koi Akela Nahi Shayari


  • Na Khushi Ki Talaash Hai Na Gham-e-Nijaat Ki Aarzoo, 
  • Main Khud Se Bhi Naraaj Hun Teri Naraajgi Ke Baad. 

  • न ख़ुशी की तलाश है न ग़म-ए-निजात की आरज़ू, 
  • मैं खुद से भी नाराज हूँ तेरी नाराज़गी के बाद। 

  • Puchha Tha Haal Unhonein Meri Badi Muddaton Ke Baad, 
  • Kuchh Gir Gaya Hai Aankh Mein Keh Kar Hum Ro Pade. 

  • पूछा था हाल उन्होंने मेरा बड़ी मुद्दतों के बाद, कुछ गिर गया है आँख में कह कर हम रो पड़े। 

  • Kabhi Toh Apna Wajood Hum Par Luta Ke Dekh, 
  • Kyu Do Kadam Chalkar Tera Yakeen Thahar Jata Hai. 

  • कभी तो अपना वजूद हम पर लुटा के देख, क्यों दो कदम चलकर तेरा यकीन ठहर जाता है।

  •  Kyun Sharminda Karte Ho Haal Humara Puchh Kar, 
  • Haal Humara Wahi Hai Jo Tumne Bana Rakha Hai. 

  • क्यूँ शर्मिंदा करते हो हाल हमारा पूँछ कर, 
  • हाल हमारा वही है, जो तुमने बना रखा हैं।

  • ================================

  • Josh-e-Junoon Mein Lutf-e-Tasawwur Na Puchhiye, Phirte Hain Saath Saath Unhein Hum Liye Huye. 

  • जोश-ए-जुनूँ में लुत्फ़-ए-तसव्वुर न पूछिए, फिरते हैं साथ साथ उन्हें हम लिए हुए।

  •  Uss Shakhs Se Faqat Itna Sa Talluq Hai Mera, 
  • Woh Pareshan Hota Hai Toh Mujhe Neend Nahi Aati. 


  • उस शख्स से फ़क़त इतना सा ताल्लुक है मेरा, वो परेशान होता है तो मुझे नींद नहीं आती है। 

  • Mat Chaho Kisi Ko Itna Tootkar Zindgi Mein, Agar Bichhad Gaye Toh Har Adaa Tang Karegi. 

  • मत चाहो किसी को इतना टूटकर ज़िन्दगी में, अगर बिछङ गये तो हर एक अदा तंग करेगी। 

  • Waha Tak Chale Chalo Jahan Tak Saath Mumkin Hai, Jaha Halaat Badlenge Waha Tum Bhi Badal Jana. 

  • वहां तक चले चलो जहाँ तक साथ मुमकिन है, 
  • जहाँ हालात बदलेंगे वहां तुम भी बदल जाना। 

  • Ek Pal Ke Liye Meri Najron Ke Saamne Aaja, 
  • Ek Muddat Se Maine Khud Ko Ayine Mein Nahi Dekha. 

  • एक पल के लिए मेरी नज़रो के सामने आजा, 
  • एक मुद्द्त से मैंने खुद को आईने में नहीं देखा।

  • ===================================

  • Meri Shayari Ka Asar Unpe Ho Bhi Toh Kaise Ho? Ki Main Ehsaas Likhta Hun Woh Alfaz Parhte Hain. 

  • मेरी शायरी का असर उनपे हो भी तो कैसे हो ? कि मैं एहसास लिखता हूँ तो वो अल्फाज़ पढ़ते हैं। 

  • Humari ‪Shayari‬ Parh Kar Bas Itna Hi Bole Woh, 
  • ‪Kalam‬ Chheen Lo Inse ‪Lafz‬ ‪Dil‬ Cheer Dete Hai. 

  • हमारी शायरी पढ़कर बस इतना ही बोले वो, कलम छीन लो इनसे लफ्ज़ दिल चीर देते हैं। 

  • Mila Kya Humein Saari Umr Mohabbat Karke, 
  • Bas Ek Shayari Ka Hunar Ek Raato Ka Jagna.

  •  मिला क्या हमें सारी उम्र मोहब्बत करके, बस एक शायरी का हुनर एक रातों का जागना। 

  • Na Main Shayar Hun Na Mera Shayari Se Koi Wasta, 
  • Bas Shauq Ban Gaya Hai Teri Bewafai Bayan Karna. 

  • न मैं शायर हूँ न मेरा शायरी से कोई वास्ता, 
  • बस शौक बन गया है तेरी बेवफाई बयाँ करना।

  • =============================

  • Zindagi Ki Raahon Par Kabhi Yun Bhi Hota Hai,
  •  Jab Insaan Khud Ro Padta Hai Akele Mein. 

  • जिंदगी की राहों पर कभी यूँ भी होता है, जब इंसान खुद को पढ़ता है अकेले में। 

  • Hum Anjuman Mein Sabki Taraf Dekhte Rahe, 
  • Apni Tarah Se Koi Humein Akela Nahi Mila. 

  • हम अंजुमन में सबकी तरफ देखते रहे, 
  • अपनी तरह से कोई हमें अकेला नहीं मिला।




Comments