Shayari on Beauty Haseeno Shabaab Hindi


  • Tu Kahe Toh Chaand Taare Tod Du, Tu Kahe Toh Yeh Duniya Chhod Du, Tu Ek Baar Haske Toh Dekh Mere Dost, Tere Saare Gande Daant Tod Du. 

  • तू कहे तो चाँद तारे तोड़ दूँ, तू कहे तो ये दुनि~या छोड़ दूँ, तू एक बार हँस के देख मेरे दोस्त, तेरे सारे गंदे दांत तोड़ दूँ।



  • Ankho Mein Aansu Chehre Par Hansi Hai~, Saanso Mein Aahein Dil Mein Bebasi Hai, Pehle Kyun Nahi Bataya Yaar Ki, Darwaje Mein Ungli Fansi Hai.

  • Bazuon Mein Dum Rakhta Hu, Dil Mein Gham Rakhta Hu, Pata Tha Sms Ayega Tera, Isliye Painkiller Sang Rakhta Hu. Ramchandr~a Keh Gaye Siya Se, Aisa Kalyug Ayega, Ek Dost Ek Taraf Se Sms Karega, Doosra Apna Paisa Bachayega. 

  • Message Pe Message Bhejte Ho, Bhej Bhej Ke Bheja Kharab Karte Ho, Bhejte Ho To Bhi Kaya Bhejte Ho, Khud Ka Bheja To Chalta Nahi, Doosron Ka Bheja Hua Bhejte Ho. 

  • Apni Raah Khud Chuno Dil Jo Kahe Wohi Karo, Apne Pichhe Walon Ko Aage Mat Jane Do, Aur Jo Aage Hain Unse Bhi Aage Niklo, Tabhi E~k Achche Rikshaw Wale Ban Paaoge.


  • Palat Dunga Saari Duniya Main Aye Khuda, Bas Rajai Mein Se Nikalne Ki Taqat De De. 

  • पलट दूँगा सारी दुनिया मैं ऐ खुदा, बस रजाई ~में से निकलने की ताकत दे दे। 

  • Mat Dhundho Mujhe Iss Duniya Ke T~anhayi Mein, Thand Bahut Hai Main Yehi Milunga Apni Rajai Mein. 

  • मत ढूंढो मुझे इस दुनिया की तन्हाई में, ठण्ड बहुत है मैं यही हूँ अपनी रजाई में। 

  • Gairfriend Apne Boyfriend Se Keh Rahi Hai, Haath Chhod Do Mera Meri Naak Beh Rahi Hai. 

  • गर्लफ्रेंड अपने बॉयफ्रेंड से कह रही है, हाथ छोड़ दो मेरा मेरी नाक बह रही है। 

  • Gujar Jati Hai Raat Isee Kashmkash Mein, K~i Kambal Mein Hawaa Kidhar Se Ghus Rahi Hai. 

  • गुजर जाती है रात इसी कशमकश में, कि कम्बल में हवा किधर से घुस रही है। 

  • Hawa Ka Jhoka Aaya Teri Khushbu Sath Laya, ~Mai Samajh Gaya Ki Tu Aaj Phir Nahi Nahaya. 

  • हवा का झोंका आया तेरी खुशबू साथ लाया, मैं स~मझ गया की तू आज फिर नहीं नहाया।



  • Zamin Par Rah Kar Aasmaan Chhu~ne Ki Fitrat Hai Meri, Par Gira Kar Kisi Ko Upar Uthane Ka Shauk Nahi Mujhe. 

  • ज़मीं पर रह कर आसमां छूने की फितरत है मेरी, पर गिरा कर किसी को, ऊपर उठने का शौक़ नहीं मुझे। 

  • Humari Haisiyat Ka Andaza, Tum Yeh Jaan Ke Laga Lo, Hum Kabhi Unke Nahi Hote, Jo Har Kisi Ke Ho Gaye. 


  • हमारी हैसियत का अंदाज़ा, तुम ये जान के लगा लो, हम कभी उनके नही होते, जो हर किसी के हो जाए।

  •  Anjaam Ki Parwaah Hoti Toh, Hum Moha~bbat Karna Chhod Dete, Mohabbat Mein Toh Zid Hoti Hai, Aur Zid Ke Bade Pakke Hain Hum. 

  • अंजाम की परवाह होती तो, हम मोहब्बत करना ~छोड़ देते, मोहब्बत में तो जिद्द होती है, और जिद्द के बड़े पक्के हैं हम।


  • Kya Kahoon Deeda-e-Tar Yeh Toh Mera ~Chehra Hai, Sang Kat Jaate Hain Baarish Ki Jahan Dhaar Gire. 

  • क्या कहूँ दीदा-ए-तर ये तो मेरा चेहरा है, ~संग कट जाते हैं बारिश की जहाँ धार गिरे। 

  • Kaun Kehta Hai Ki Aashuon Mein Wajan Hai Hota, Ek Bhi Chhalak Jata Hai To Man Halka Ho Jata Hai. 

  • कौन कहता है कि आंसुओं में वज़न नहीं होता, एक भी छलक जाए तो मन हल्का हो जाता है।

  •  Hamein Kya Pataa The Yeh Mausam Yun Ro Padega, Humne Toh Aasmaa Ko Bas Apni Dastaan Sunayi Hai. 

  • हमें क्या पता था ये मौसम यूँ रो पड़ेगा, हमने तो आसमां को बस अपनी दास्ताँ सुनाई है


  • Dost Ruthe Toh Rab Ruthe Fir Ruthe Toh Jag Chhute, Agar Fir Ruthe Toh Dil Tute Aur Agar Fir Ruthe, To Nikal Danda Maar Sale Ko Jab Tak Danda Na Tute. 


  • दोस्त रूठे तो रब रूठे, फिर रूठे तो जग छू~टे, अगर फिर रूठे तो दिल टूटे, और अगर फिर रूठे तो निकाल डंडा मार साले को जब तक डंडा न टूटे।



  • Kya Mast Mausam Aaya Hai, Har Taraf Pani Hi Pani Laya Hai, Tum Ghar Se Baahar Mat Niklna, Varna Log Kahenge Barsat Hui Nahi, ~Aur Mendhak Nikal Aaya Hai. 

  • क्या मस्त मौसम आया है, हर तरफ पानी ही पानी लाया है, तुम घर से बाहर मत निकलना, वर्ना लोग कहेंगे बरसात हुई नहीं और मेंढक निकल आया है।



  • Raat Badi Mushkil Se Khud Ko Sulaya Hai Maine, Apni Aankho Ko Tere Khwab Ka Laalach Dekar. 

  • रात बड़ी मुश्किल से खुद को सुलाया है मैंने, अपनी आँखों को तेरे ख्वाब का लालच देकर।

  •  Itne Sawaal The Mere Paas Ki Meri Umar Se Na Simat Sake, Jitne Jawaab The Tere Paas Sabhi Teri Ek Nigah Me Aa Gaye. 

  • इतने सवाल थे मेरे पास की मेरी उम्र से न सिमट ~सके, जितने जवाब थे तेरे पास सभी तेरी एक निगाह में आ गए। खुलते हैं मुझ पे राज कई इस जहान के, उसकी हसीन आँखों में जब झाँकता हूँ मैं। 

  • Khulte Hain Mujh Pe Raaz Kayi Iss Jah~an Ke, UsKi Haseen Aankhon Mein Jab Jhankta Hoon Main.



  • Meri Ik Umr Kat Gayi Tere Intezaar ~Mein, Aise Bhi Hain Ki Kat Na Saki Jinse Ek Raat.

  •  मेरी इक उमर कट गई है तेरे इंतजार में, ऐसे भी हैं कि कट न सकी जिनसे एक रात। 

  • Ab Teri Mohabbat Pe Mera Haq To Nahi Sanam, Phir Bhi Aakhiri Saans Tak Tera Intezaar Karenge. 


  • अब तेरी मोहब्बत पर मेरा हक तो नही सनम, फिर भी आखिरी साँस तक तेरा इंतजार करेंगे। 

  • Unki Marji Ho Toh Baat Karte Hain Aur ~Ek Hum Hain, Jo Har Waqt Unki Marji Ka Intezaar Karte Hain. 


  • उनकी मर्जी हो तो बात करते है और एक ह~म हैं, जो हर वक़्त उनकी मर्जी का ही इंतज़ार करते हैं। 


  • Din Bhar Bhatakte Rahte Hain Armaan Tujhse Milne Ke, Na Yeh Dil Thehrta Hai Na Tera Intezaar Rukta Hai. 

  • दिन भर भटकते रहते हैं अरमान तुझ~से मिलने के, न ये दिल ठहरता है न तेरा इंतज़ार रुकता है। 

  • Umr-e-Daraaz Maang Ke Laaye The ~Chaar Din, Do Aarzoo Mein Kat Gaye Do Intezaar Mein. 

  • उम्र-ए-दराज माँग कर लाये थे चार दिन, दो आर~ज़ू में कट गए दो इंतज़ार में।



  • Har Baar Hum Par Ilzaam Laga Dete Ho Mohhabat Ka, Kabhi Khud Se Pucha Hai Ki Itne Haseen Kyu Ho? 

  • हर बार हम पर इल्ज़ाम लगा देते हो मोहब्बत~ का, कभी खुद से भी पूछा है इतने हसीन क्यों हो? 


  • Adaa Aayi Jafa Aayi Garur Aaya Itaab ~Aaya, Hajaron Aaftein Lekar Haseeno Ka Shabaab Aaya. 

  • अदा आई जफा आई गरूर आया इताब आया, हजारों आफतें लेकर हसीनों का शबाब आया।

  •  Ho Wafa Jis Mein Woh Maashuq Kahan Se Laaun, Hai Yeh Mushkil Ki Haseen Ho Sitamjaad Na Ho. 

  • हो वफा जिसमें वह माशूक कहाँ से ~लाऊँ, है यह मुश्किल कि हसीं हो सितमजाद न हो। 

  • Adaa Pariyon Ki Surat Hoor Ki Aankhein Gizalon Ki, Garaj Maange Ki Har Ek Cheej Hai Inn Husn Walon Ki. 

  • अदा परियों की सूरत हूर की आंखें गिजालों की, गरज माँगे कि हर इक चीज है इन हुस्न वालों की। 


  • Andaaj Apna Dekhte Hain Aayine Me~in Woh, Aur Yeh Bhi Dekhte Hain Koyi Dekhta Na Ho. 


  • अन्दाज अपना देखते हैं आइने में वह, और यह भी देखते हैं कोई देखता न हो।



No comments :

Post a Comment